अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए मध्यस्थता समिति को 15 अगस्त तक समय

Supreme Court on Ayodhya

नई दिल्ली। अयोध्या विवाद को सुलझाने के लिए अब मध्यस्थता समिति के पास 15 अगस्त तक का समय है। सुप्रीम कोर्ट ने विवाद सुलझाने की समय सीमा बढ़ाते हुए कहा है कि समिति के सदस्यों को मध्यस्थता प्रक्रिया में किसी तरह की कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ रहा।

अयोध्या के मसले पर सुप्रीम कोर्ट ने आपसी सहमति से विवाद सुलझाने की बात कही थी। इसके लिए जस्टिस एफ.एम.आई. कलीफुल्ला की अध्यक्षता में एक समिति बनाई गई थी। इनके साथ समिति में आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू शामिल हैं।

मध्यस्थता प्रक्रिया अयोध्या के करीब फैजाबाद में हो रही है।

मध्यस्थता से सुलझाएं अयोध्या विवाद, मीडिया को कवरेज की इजाज़त नहीं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक अब तक की मध्यस्थता प्रक्रिया में प्रगति हुई है और समिति के अध्यक्ष ने समय सीमा बढ़ाए जाने की मांग की है।

हालांकि अदालत ने मध्यस्थता की कोशिशों के बारे में बाकी जानकारी नहीं सार्वजनिक नहीं की है । सुप्रीम कोर्ट ने मार्च में मध्यस्थता समिति को 8 हफ्ते का वक्त दिया था और पूरी प्रक्रिया की मीडिया कवरेज पर रोक लगा दी थी।

मध्यस्थता की कोशिशों की एक रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद अदालत ने समय सीमा बढ़ाने का फैसला किया है