आख़िर क्या है कोविड-19 कोरोनावायरस ?

Coronavirus2

नई दिल्ली । पॉइंट आउट

कोविड-19 को समझने से पहले हमें कोरोनावायरस को समझना होगा। दरअसल कोरोनावायरस एक ऐसा वायरस है जो पशुओं या इंसानों को बीमार कर सकता है। इसके साथ ही यह संक्रमण के ज़रिए और लोगों में भी फैल सकता है।

डब्ल्यू एच ओ यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक कोरोनावायरस इंसानों में साँस संबंधी कई तरह के संक्रमण फैला सकते हैं। इसमें साधारण सर्दी जुकाम से लेकर मिडिल ईस्ट रैस्पिरेटरी सिंड्रोम (एमईआरएस) और सीवियर एक्यूट रैस्पिरेटरी सिंड्रोम यानि सार्स (एसएआरएस) जैसी गंभीर बीमारियाँ भी शामिल हैं।

कोविड-19 कोरोनावायरस

अब बात कोविड-19 कोरोनावायरस की जिसने मौजूदा वक्त में पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है। कोविड-19 एक संक्रामक रोग है जो हाल ही में कोरोनावायरस के एक नए प्रकार के तौर पर सामने आया है।  विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक दिसंबर 2019  में चीन के वुहान प्रांत में कोविड-19 का संक्रमण शुरू होने से पहले,  इस नए कोविड-19 कोरोनावायरस और इससे होने वाली बीमारी के बारे में कोई भी जानकारी नहीं थी।

कोविड-19 कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से बहुत जल्दी लोगों में फैल रहा है, यही वजह है कि देखते ही देखते यह एक महामारी के तौर पर पूरी दुनिया में फैल चुका है।

इस वायरस को लेकर दुनिया भर में तरह-तरह की भ्रांति फैलाई जा रही है। जानकारों का कहना है कि इस वायरस को लेकर किसी भी तरह की गलत सूचना पर भरोसा नहीं करे। यह बात प्रमाणित हो चुकी है कि यह तेज़ी से फैलने वाला संक्रामक रोक है।

हालाँकि कोविड-19 कोरोनावायरस को लेकर दुनिया भर के वैज्ञानिक इसके बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी जुटाने में लगे हैं। चिकित्सा विज्ञान से जुड़े लोग इस महामारी से निपटने के लिए वैक्सीन की खोज में भी जुट गए हैं। वैज्ञानिकों को यक़ीन है कि कोविड-19 कोरोनावायरस बीमारी को हराने के लिए हम जल्द ही इसकी वैक्सीन खोज लेंगे।