आरबीआई लगा सकता है यस बैंक पर जुर्माना

नई दिल्ली । भारतीय रिजर्व बैंक गोपनीयता मानकों के उल्लंघन के मामले में यस बैंक पर मौद्रिक नीति के तहत जुर्माना लगा सकता है।देश का सेंट्रल बैंक मौद्रिक नीति के ज़रिए ब्याज़ की दरों पर नियंत्रण कर कैशफ्लो को नियमित करता है । वस्तुओं के कीमतों में बढ़ोतरी से बचने के लिए ऐसा करना ज़रूरी होता है । ये अर्थव्यवस्था के विकास के लिए भी ज़रूरी है।

यस बैंक ने आरबीआई के साथ हुए सूचनाओं के आदान-प्रदान को पब्लिक कर दिया है । ये सूचनाएं यस बैंक के एनपीए को लेकर हैं । सूचनाओं के सार्वजनिक होने के बाद यस बैंक के शेयर में उछाल आ गया था । आरबीआई इस तरह की सूचनाओं को बाज़ार केंद्रित सूचना मानता है जो स्टॉक पर असर डालता है । 

इसके बाद आरबीआई ने यस बैंक को चेतावनी दी है। इस चेतावनी के खुलासे से यस बैंक के स्टॉक की कीमत में 1.72 फीसदी की गिरावट आई है ।

केंद्रीय बैंक ने पहली बार इस तरीके से यस बैंक को कहा कि जोखिम आंकलन रिपोर्ट गोपनीय होती है और बैंक ने इसका खुलासा जानबूझकर गुमराह करने के लिए किया है। 

पिछले एक महीने में आरबीआई ने कई बैंकों पर जुर्माना लगाया है। हालांकि ऐसे मामलों में आरबीआई बैंक का लाइसेंस रद्द नहीं कर सकता । हाल ही में आरबीआई ने सार्वजनिक क्षेत्र के चार बैंकों पर पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया। कॉरपोरेशन बैंक पर दो करोड़ रुपये और भारतीय स्टेट बैंक , बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर एक-एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था।

आईएएनएस इनपुट के साथ