उत्तर प्रदेश में टूटेगा गठबंधन, उपचुनाव अकेले लड़ेगी बीएसपी

Mayawati

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) अध्यक्ष मायावती ने समाजवादी पार्टी के साथ अपने गठबंधन को तोड़ने के संकेत दिए हैं। उत्तर प्रदेश के पार्टी नेताओं की एक बैठक में मायावती ने राज्य में 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में अकेले लड़ने का ऐलान किया है।

लोकसभा चुनाव में बीएसपी ने एसपी और आरएलडी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था।

सामान्य तौर पर बीएसपी कभी उपचुनाव में अपने उम्मीदवार नहीं उतारती लेकिन इस बार पार्टी ने राज्य में होने वाले उपचुनावों में हिस्सा लेने का फैसला किया है।

गठबंधन ने खोल दीं समाजवादी पार्टी परिवार की गाठें     

पार्टी की बैठक में मायावती ने कहा कि बीएसपी को समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन से कोई फायदा नहीं हुआ है।
उन्होंने पार्टी नेताओं से 11 विधानसभा सीटों के उप चुनावों के लिए उम्मीदवारों की सूची बनाने के लिए कहा। यह उपचुनाव, इन विधायकों के लोकसभा के लिए चुने जाने की वजह से होंगे।
बीजेपी के नौ विधायकों ने लोकसभा चुनाव जीता है, जबकि बीएसपी और एसपी के एक-एक विधायक लोकसभा के लिए चुने गए हैं।

इस बीच राज्य के बीएसपी अध्यक्ष आर.एस.कुशवाहा ने लोकसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को जिम्मेदार ठहराया है।

एनएसए बने रहेंगे अजित डोभाल, कैबिनेट स्तर का मिला दर्जा

बीएसपी ने उत्तर प्रदेश में 10 लोकसभा सीटें जीती हैं। पार्टी 38 सीटों पर चुनाव लड़ी थी।

दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी ने 37 सीटों पर चुनाव लड़ा था और पार्टी सिर्फ पांच सीटें जीत सकी। राष्ट्रीय लोकदल ने तीन सीटों पर चुनाव लड़ा और एक भी सीट नहीं जीत सकी।

दिलचस्प है कि मायावती और एसपी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अब तक भविष्य के गठबंधन पर एक भी शब्द नहीं कहा है।