कश्मीर, एनआरसी पर काम कर रहे अमित शाह संग 16 नौकरशाह

Amit Shahकेंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह राष्ट्रीय सुरक्षा के अहम पहलुओं पर 16 प्रमुख नौकरशाहों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक शाह अपनी टीम के साथ देश की संरचनागत मुश्किलें हल करने की रणनीति बना रहे हैं।

देश की सुरक्षा से जुड़े इन मुद्दों में कश्मीर विद्रोह, राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी), पूर्वोत्तर और नक्सली प्रभावित क्षेत्रों में हालात पर काबू पाना शामिल है।

गृहमंत्री एक ओर जहां आम लोगों के लिए ‘विकास और विश्वास’ का मंत्र दे रहे हैं, वहीं आतंकवाद के लिए एक लोहे की मुट्ठी की नीति के तहत कुछ नए और कुछ पुराने चेहरों के साथ एक कोर टीम बनाकर काम कर रहे हैं।

कश्मीर से अनुच्छेद-35ए हटाने की तैयारी, और 10 हजार सैनिक तैनात

उत्तरी ब्लॉक में महत्वपूर्ण मंत्रालय में सहायक प्रमुख नौकरशाहों पर शाह को भरोसा है। इनमें भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) से लिए गए 16 वरिष्ठ पुरुष और दो महिला अधिकारी शामिल हैं।

इन अधिकारियों में से दो सचिवों के पद पर, तीन विशेष सचिव के पद पर, तीन अतिरिक्त सचिव और आठ संयुक्त सचिव के पद पर हैं।

शाह के विशेष सिपहसालार

24 जुलाई को गृह मंत्रालय में विशेष ड्यूटी (ओएसडी) के रूप में नियुक्त हुए 1984 बैच के असम-मेघालय कैडर के आईएएस अधिकारी गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने भी काम करना शुरू कर दिया है।

राजीव गौबा की जगह पर भल्ला नए गृह सचिव के रूप में पदभार संभालेंगे। राजीव 31 अगस्त को सेवानिवृत्त होंगे।

भल्ला अपने दो साल के कार्यकाल के दौरान अगस्त 2021 तक शाह की सहायता करेंगे।

शाह के निजी सचिव साकेत कुमार भी उनकी शीर्ष टीम के सदस्यों में से हैं। बिहार कैडर के 2009 बैच के आईएएस, कुमार 29 जुलाई, 2023 तक गृह मंत्री की सहायता करेंगे।

अमित शाह ने कहा, आतंकवाद और आतंकियों के प्रति कोई सहिष्णुता नहीं

टीम के अन्य प्रमुख अधिकारियों में सचिव शैलेश (आधिकारिक भाषा), सचिव, बी.आर. शर्मा (सीमा प्रबंधन), विशेष सचिव एपी माहेश्वरी (आंतरिक सुरक्षा), विशेष सचिव भूपेंद्र सिंह (वित्तीय सलाहकार), विशेष सचिव, सतपाल चौहान (केंद्र-राज्य), अतिरिक्त सचिव ज्ञानेश कुमार (जम्मू-कश्मीर), अतिरिक्त सचिव गोविंद मोहन (केंद्र शासित प्रदेश) और अतिरिक्त सचिव विवेक भारद्वाज (पीएम) शामिल हैं।

संयुक्त सचिव प्रवीण वशिष्ठ ( वामपंथी चरमपंथ), संयुक्त सचिव सत्येंद्र गर्ग (पूर्वोत्तर), संयुक्त सचिव अनिल मलिक (विदेश), संयुक्त सचिव ए.वी. धर्म रेड्डी (सीमा प्रबंधन-प्रथम), संयुक्त सचिव अमिताभ खर्कवाल (पुलिस- प्रथमऔर पुलिस-द्वितीय) और संयुक्त सचिव एस.सी.एल. दास (आंतरिक सुरक्षा-प्रथम) टीम के अन्य लोगों में शामिल हैं।

दो महिला अधिकारियों में संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव (महिला सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा का अतिरिक्त प्रभार) और संयुक्त सचिव निधि खरे (सीमा प्रबंधन) शामिल हैं।