केरल का काजू फेनी बाजार में देगा दस्तक

तिरुवनंतपुरम । केरल राज्य काजू विकास निगम लिमिटेड की पहल की बदौलत जल्द ही केरल में बना काजू फेनी बाजार में दस्तक देगा।फेनी एक उत्पाद है, जिसने गोवा में अपनी पहचान बनाई है, इसलिए केरल राज्य काजू विकास निगम लिमिटेड ने भी ऐसा करने का फैसला किया है । 

राज्य के स्वामित्व वाले निगम के अध्यक्ष एस. जयमोहन  के मुताबिक निगम का उद्देश्य उद्देश्य काजू के मूल्यवर्धित उत्पादों के साथ आना है।इसके लिए काजू सोडा और जैम पहले ही बनाए जा रहे हैं । दोनों ही चीजें काजू एप्पल से बनी हैं । 

एस. जयमोहन ने कहा, “सरकार को सौंपी जाने वाली परियोजना रिपोर्ट तैयार की जा रही है और किसी भी समय काजू से फेनी बनाने काम शुरू किया जाएगा। जैसे ही राज्य सरकार द्वारा इसे मंजूरी मिलती है, यह शराब उत्पादन के विभिन्न पहलुओं को अंतिम रूप देने के लिए आबकारी विभाग के पास भेजा जाएगा।”

उन्होंने कहा, “काजू एप्पल से जैम और सोडा के उत्पादन में हमारी पहल ने हमें पुरस्कार दिलाया है, क्योंकि अबतक जो काजू एप्पल बेकार हो रहे थे, वे ‘कैश प्रोडक्ट’ में बदल गए हैं और अब उपलब्ध काजू के पेड़ों की नई किस्मों के साथ अधिक से अधिक लोग पौधे लगाने शुरू कर सकते हैं।” 

काजू उत्पादों के क्षेत्र और उत्पादन के मामले में महाराष्ट्र क्रमश: 18 फीसदी और 33 फीसदी के साथ पहले स्थान पर है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर क्षेत्र के मामले में केरल की हिस्सेदारी 3.8 फीसदी और उत्पादन के मामले में 10.79 फीसदी ही है । 

केरल में काजू का उत्पादन अब बढ़कर 25,600 मीट्रिक टन हो गया है, 2008-09 में ये 42,000 मीट्रिक टन था,

केरल राज्य काजू विकास निगम के पास राज्य में 30 काजू कारखाने हैं और 12,000 कर्मचारी हैं। कोल्लम में मौजूद कारखाने में काजू सोडा और जैम का उत्पादन होता है।

आईएएनएस इनपुट के साथ