घटेगी ईएमआई, एनइएफटी-आरटीजीएस से पैसे ट्रांसफर करने पर नहीं देना होगा चार्ज

RBI Press ConferenceFile Photo Photo Credit: twitter RBI

मुंबई। भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपनी क्रेडिट पॉलिसी जारी कर दी है। इसमें आरबीआई ने मौद्रिक नीति की समीक्षा में रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती का ऐलान किया है। लगातार तीसरी बार आरबीआई की तरफ से रेपो रेट में कटौती की गई है।

नई दर के मुताबिक अब देश के बैंकों को 5.75 फीसदी की दर पर कर्ज उपलब्ध कराएगा। रेपो रेट कम होने की सीधा असर ईएमआई और ब्याज दरों पर पड़ेगा । आरबीआई की तरफ से कमी किए जाने के बाद बैंक भी अपने ब्याज दरों में कटौती का ऐलान कर सकते हैं।

भारत में अमेरिका से 65 फीसदी तक ज्यादा है आईफोन की कीमत

इसके अलावा एक और अच्छी खबर ये है कि एनइएफटीऔर आरटीजीएस से पैसे ट्रांसफर करने पर अब कोई चार्ज नहीं लगेगा । मौजूदा वक्त में इन दोनों ही तरीकों से पैसे ट्रांसफर करने पर अमाउंट के हिसाब से ढाई रुपए से लेकर 50 रुपए तक चुकाने होते थे।

आरबीआई ने पॉलिसी में रिवर्स रेपो रेट में भी बदलाव किया है. रिवर्स रेपो रेट 0.25 फीसदी घटाकर 5.50 फीसदी कर दिया गया है। हालांकि, सीआरआर में कोई भी बदलाव नहीं किया गया है। सीआरआर को 4 फीसदी पर ही रखा गया है. खास बात यह है कि आरबीआई ने अपना रुख न्यूट्रल से बदलकर अकोमोडेटिव किया है.

इंडिगो का मुनाफा चौथी तिमाही में 401 फीसदी बढ़ा

शक्तिकांत दास के आरबीआई के गवर्नर बनने के बाद यह लगातार तीसरी कटौती है। इससे पहले फरवरी और अप्रैल की पॉलिसी में भी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की गई थी। अब तक तीन पॉलिसी में 0.75 फीसदी की कटौती की जा चुकी है।