जेपी आंदोलन से राजनीतिक जीवन में कदम रखने वाले जगत प्रकाश नड्डा का जीवन

जेपी आंदोलन से सामाजिक जीवन में कदम रखने वाले जगत प्रकाश नड्डा का जीवन

नई दिल्ली। यह भारतीय जनता पार्टी में ही हो सकता है कि अमित शाह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाते हैं तो जगत प्रकाश नड्डा पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष। इन दोनों ही लोगों की पारिवारिक पृष्ठभूमि राजनीतिक नहीं रही है, अमित शाह के पिता कारोबार से जुड़े रहे और जगत प्रकाश नड्डा के पिता पटना विश्वविद्यालय में कुलपति थे और इन दोनों ही नेताओं ने अपनी काबिलियत के दम पर यह मुकाम हासिल किया।

वैसे तो जगत प्रकाश नड्डा 2014 से 2019 तक नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय संभाल चुके हैं। लेकिन फिर भी जगत प्रकाश नड्डा के बारे में ऐसी कई बातें हैं जो आप जानना चाहेंगे।

मूलरुप से हिमाचल प्रदेश के रहने वाले जगत प्रकाश नड्डा का जन्म 2 दिसंबर 1960 को बिहार की राजधानी पटना में हुआ। उनके पिता का नाम डॉ नारायण लाल नड्डा है और मां का नाम श्रीमती कृष्णा नड्डा है।

छात्र राजनीति से ही सक्रिय

छात्र राजनीति में सक्रिय रहे जगत प्रकाश अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए थे और 1977 में पटना विश्वविद्यालय के छात्र संघ चुनाव में सचिव चुने गए। उन्होंने पटना से बीए की डिग्री हासिल की। इसके बाद वकालत पढ़ने के लिए हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में दाखिला ले लिया। हिमाचल प्रदेश में एलएलबी करने के दौरान भी जगत प्रकाश छात्र राजनीति से जुड़े रहे। यहां भी उन्होंने छात्र संघ का चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

जगत प्रकाश नड्डा बने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से कार्यकारी अध्यक्ष

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े रहे जगत प्रकाश नड्डा 1989 में एबीवीपी के राष्ट्रीय संगठन मंत्री बने। इसके बाद 1991,1993 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए। 1993 में हिमाचल प्रदेश से विधायक चुने गए और 1994 से 1998 तक विधानसभा में पार्टी के नेता रहे।

जेपी आंदोलन से सामाजिक जीवन में कदम रखने वाले जगत प्रकाश नड्डा का जीवन

Photo credit Twitter JP Nadda

1998 में दोबारा विधायक चुने गए और स्वास्थ्य और संसदीय मामलों के मंत्री बनाए गए। 2007 में हिमाचल से फिर विधायक बने और वन पर्यावरण, विज्ञान व तकनीक मंत्री के तौर पर अपनी भूमिका का निर्वाह किया। 2010 में जगत प्रकाश नड्डा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री बनाए गए।

जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, केरल, राजस्थान, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के प्रभारी और चुनाव प्रभारी की भूमिका को भी सकुशल निभाया। 2012 में राज्यसभा के सदस्य चुने गए। 2014 में भारतीय जनता पार्टी की संसदीय समिति के सचिव नियुक्त किए गए। 2014 से 2019 तक केंद्र सरकार में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की कमान संभाली। अब देखना यह है कि कार्यकारी अध्यक्ष की भूमिका के तौर पर जगत प्रकाश नड्डा भारतीय जनता पार्टी के सफ़र को कैसे आगे बढ़ाते हैं।