नरेंद्र मोदी की जीत, जनमत और पॉइंट आउट की विश्वसनीयता

नई दिल्ली। लोकसभा के नतीजों ने भारतीय लोकतंत्र में जनमत की आस्था को और मज़बूत किया है। देश का मतदाता जागरुक हो चला है, मतदान को वह अपना अधिकार और कर्तव्य दोनों मानता है। यही वजह है कि देश की सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव में अब तक का सबसे ज़्यादा मतदान हुआ। लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति लोगों के इस भरोसे ने पूरी दुनिया में भारतीय लोकतंत्र का सम्मान बढ़ाया है।

बीजेपी की जीत आडवाणी की वजह से संभव : मोदी

पॉइंट आउट समूह पिछले एक साल से देश के हर तबके की आवाज़ को सुनने में जुटा था। देश के कॉरपोरेट घराने के सदस्य से लेकर सड़क पर चाय बेचने वाले व्यक्ति, शीर्ष पदों पर बैठे भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी से लेकर सरकारी दफ्तरों में कार्यरत क्लर्क, रेलगाड़ी और मेट्रो चलाने वाले चालक से लेकर ऑटो टैक्सी चलाने वाले व्यक्ति, पहली बार मतदान का प्रयोग करने जा रहे नौजवान से लेकर देश के वरिष्ठ नागरिक, गांव से लेकर शहर के मतदाताओं के मन की बात को समझने की दिशा में पॉइंट आउट टीम ने पूरी तन्मयता के साथ काम किया। यही वजह है कि लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के बाद नतीजों को लेकर  पॉइंट आउट के अनुमान सबसे सटीक साबित हुए। हमारी कोशिश होगी कि हम अपनी इसी विश्वसनीयता के साथ देश और दुनिया से जुड़ी हर ख़बर आपके बीच लेकर आते रहें।