प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनका हर शब्द मूल्यवान : मोदी

प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनका हर शब्द मूल्यवान : मोदी

नई दिल्ली। सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र की कार्यवाही शुरु होने से पहले भारतीय संसद के प्रांगण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष का सशक्त और सक्रिय होना ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनका हर शब्द मूल्यवान है। उनकी हर भावना मूल्यवान है।

मुझे विश्वास है कि पक्ष और विपक्ष के दायरे में बंटने के बजाय निष्पक्ष भाव से जनकल्याण को प्राथमिकता देते हुए हम आने वाले पांच साल के लिए इस सदन की गरिमा को ऊंचा उठाने के लिए प्रयास करेंगे।

नए साथी, नए सपने

इसके पहले  मीडियाकर्मियों से बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ने कहा, ‘नई लोकसभा के गठन के बाद आज प्रथम सत्र प्रारंभ हो रहा है। अनेक नए साथियों के परिचय का यह अवसर है। नए साथी जब जुड़ते हैं तो नया उमंग, नया उत्साह, नए सपने भी जुड़ते हैं।

आज़ादी के बाद सबसे ज़्यादा महिला प्रतिनिधी

भारत के लोकतंत्र की विशेषता ताकत का अनुभव हम हर चुनाव में करते हैं। यह चुनाव इसलिए भी खास है कि आजादी के बाद सबसे ज्यादा महिला प्रतिनिधितयों का चुना जाना, सबसे अधिक मतदान जैसे विशेषताओं का चुनाव रहा। कई दशक के बाद एक सरकार को पूर्ण बहुमत के साथ और पहले से अधिक सीटों के साथ जनता ने सेवा का मौका दिया है।’