बजट 2019: पीपीपी मॉडल से विकास की पटरी पर दौड़ेगी रेल

Nirmala Sitharaman in LSPhoto Credit: Twitter Loksabha TV

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में बजट 2019 पेश करते हुए जोर देकर कहा कि रेलवे को 2018 से 2030 तक 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत है।

उन्होंने यात्री और माल ढुलाई सेवाओं में तेजी से विकास करने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी मॉडल) का प्रस्ताव दिया। सीतारमण ने कहा, “अनुमान है कि 2018-2030 के बीच रेलवे की आधारभूत संरचना के लिए 50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत है।”

निर्मला सीतारमण ने पेश किया बजट, जानिए अहम बातें

वित्त मंत्री ने कहा, “यह देखते हुए कि रेलवे का पूंजीगत व्यय 1.5 से 1.6 लाख करोड़ प्रति वर्ष है, सभी स्वीकृत परियोजनाओं को पूरा करने में दशकों लगेंगे।”

उन्होंने कहा, “इसीलिए ट्रैक और रॉलिंग स्टॉक्स यानी रेल इंजन, कोच व वैगन निर्माण कार्य और यात्री माल सेवाएं संचालित करने में तेजी से विकास लाने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी का प्रस्ताव लाया गया है।”