बिहार बाढ़: अररिया, सुपौल, खगड़िया के कई गांवों का मुख्यालय से संपर्क टूटा

बिहार में बाढ़बिहार में बाढ़ से टूट गई हैं सड़कें

पटना । बिहार में बाढ़ की वजह से अररिया के कई गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट चुका है। गांवों में लोगों के घरों में पानी भर गया है जिससे लोग बेघर हो चुके हैं। सैकड़ों लोग सड़क किनारे रहने को मजबूर हो चुके हैं।

अररिया के जोकीहाट प्रखंड में बकरा नदी उफान पर है । करीब चार दर्जन सड़कें और पुलिया ध्वस्त हो गए हैं । तारण-पलासी मार्ग पर बने पुल के टूट जाने से ग्रामीण इलाकों का संपर्क मुख्यालय से टूट गया है।

जोगीहाट का टूटा पुल

जोगीहाट का टूटा पुल

हालांकि जोकीहाट प्रखंड के लोगों ने हिम्मत नहीं हारी है । जान जोखिम में डालकर बांस और बल्लियों के सहारे पुल बना रहे हैं । हालांकि बाढ़ का पानी इतना ज्यादा है कि इस काम में मुश्किलें आ रही हैं ।

बिहार बाढ़: मधुबनी के नरुआर गांव में सैकड़ों घर हुए ज़मींदोज़

सुपौल जिले में भी कई गांव में बाढ़ की वजह से ऐसी ही हालत बनी हुई है। हालांकि जिला प्रशासन लगातार काम में लगा हुआ है । सड़क किनारे रह रहे लोगों के रहने की व्यवस्था फिलहाल एक स्कूल में की गई है। वहीं बभनी गांव में बाढ़ पीड़ितों को खाना मुहैया कराने के लिए जिला प्रशासन ने कम्युनिटी किचन शुरू कराया है।

कम्युनिटी किचन

बाढ़ पीड़ितों के लिए चलाया जा रहा कम्युनिटी किचन

बिहार में अचानक आई बाढ़ से कुछ इलाके ऐसे हैं जहां लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने का मौका तक नहीं मिल पाया है । खगड़िया के अलौली प्रखंड की यही हालत है। कई गांवों का संपर्क पूरी तरह कटा हुआ है। ग्रामीण अभी भी सरकारी नाव का इंतजार कर रहे हैं कि सुरक्षित जगहों पर जा सकें।