बीजेपी के 131 सांसद पहली बार लोकसभा पहुंचे

Amit Shah & Ravi ShankarPrasad

नई दिल्ली।  भारतीय जनता पार्टी के इस बार चुने गए सांसदों में 131 सांसद ऐसे हैं जो पहली बार लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बने हैं, इसमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी शामिल हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा था और जीत कर सांसद बन गए हैं।  131 नए सांसदों में फिल्म जगत से लेकर खेल जगत तक के सितारे शामिल है। इनमें सनी देओल, रवि किशन, गौतम गंभीर और हंस राज हंस का नाम शामिल हैं।

बालासोर लोकसभा सीट से प्रताप सिंह सारंगी, दक्षिण बेंगलुरु सीट से तेजस्वी सूर्या और पुरुलिया सीट से ज्योतिर्मय सिंह महतो कुछ ऐसे नाम हैं जो साधारण पृष्ठभूमि से उभरे हैं और उन्होंने चुनाव में अप्रत्याशित जीत हासिल की है।

अलवर लोकसभा सीट से बालक नाथ और सोलापुर से जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य स्वामी जैसे कुछ संत भी संसद के निचले सदन में अपनी जगह बनाने में कामयाब हुए हैं।

मोदी ने महात्मा गांधी, वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की

अपनी कट्टर हिंदुत्ववादी छवि के लिए चर्चित और 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में एक अभियुक्त विवादास्पद प्रज्ञा ठाकुर भी सांसद चुनी गईं हैं।

पहली बार लोकसभा जाने वाले सांसदों में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश से

उत्तर प्रदेश से पहली बार निर्वाचित सांसदों की संख्या सबसे ज्यादा है। राज्य की 80 सीटों में से 62 सीटें बीजेपी ने जीती हैं जिनमें से 20 सीटों से चुने गए सांसदों ने पहली बार लोकसभा चुनाव जीता है।

भोजपुरी फिल्म स्टार रवि किशन गोरखपुर से जीते। इससे पहले यहां से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनाव लड़ते और जीतते रहे थे।

रवि किशन ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के गठबंधन उम्मीदवार राम भुवाल निषाद के खिलाफ तीन लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज की।

योगी सरकार में मंत्री रहीं रीता बहुगुणा जोशी ने इलाहाबाद से जीत हासिल की। भारतीय राजनीति का जाना-माना चेहरा रीता जोशी भी पहली बार लोकसभा पहुंची हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पूर्व मंत्री कलराज मिश्र की सीट रही देवरिया से इस बार पूर्व राज्य इकाई अध्यक्ष रमापति राम त्रिपाठी जीते हैं।

अपनी पहली लोकसभा जीत दर्ज करने वालों में उत्तर प्रदेश के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी संघमित्रा मौर्य (बदायूं), जय प्रकाश (हरदोई), राजवीर दिलेर (हाथरस), जाने माने उद्योगपति अनुराग शर्मा (झांसी), अरुण कुमार सागर और प्रदीप कुमार शामिल हैं।

दूसरे नंबर पर है बंगाल

बीजेपी से पहली बार लोकसभा पहुंचने वालों 131 सांसद में संख्या के हिसाब से बंगाल दूसरे नंबर पर है।

बाबुल सुप्रियो, एस.एस. अहलूवालिया और सौमित्र खान को छोड़कर बाकी 15 पहली बार सांसद बने हैं। बीजेपी ने पहली बार राज्य की कुल 42 में से 18 सीटें जीतीं।

मध्य प्रदेश ने 12, गुजरात ने दिए 10 नए सांसद

मध्य प्रदेश में बीजेपी ने 29 में से 28 सीटें जीतीं। 28 विजेताओं में से के पी यादव सहित 12 सांसद पहली बार जीते हैं। यादव ने गुना से कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराया।

मध्य प्रदेश से ढाल सिंह बिसेन, दुर्गा दास उइके, संध्या राय, महेंद्र सिंह सोलंकी, विवेक नारायण शेलवल्कर, हिमाद्री सिंह अन्य प्रमुख चेहरे हैं, जो अपनी सीटों पर जीत दर्ज कर पहली बार लोकसभा पहुंचे हैं।

गुजरात में कुल 26 निर्वाचित सांसदों में से 10 पहली बार लोकसभा जाएंगे।

30 मई को शपथ लेंगे नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान छोड़ कई देश के नेताओं को न्योता

राज्य से पहली बार लोकसभा जाने वालों में हंसमुख भाई पटेल, मितेश भाई पटेल, परबत भाई पटेल, गीता बेन राठवा, शारदा बेन पटेल, रतन सिंह राठौर, देबी भारत सिंह, रमेश भाई धाधुक और मुंजापारा महेंद्र शामिल हैं।

इन राज्यों ने दिए 9-9 नए सांसद

छत्तीसगढ़, कर्नाटक और महाराष्ट्र, तीनों राज्यों में नौ सांसद पहली बार चुने गए हैं।

छत्तीसगढ़ में बीजेपी ने अपने सभी मौजूदा सांसदों को टिकट देने से इनकार कर दिया था। 11 सीटों में से पार्टी ने नौ पर जीत दर्ज की।

सभी नौ पहली बार लोकसभा जाएंगे, जिनमें अरुण साओ, विजय बघेल, मोहन मंडावी, चुन्नी लाल साहू, गुहाराम अजगले, सुनील कुमार सोनी, संतोष पांडे और रेणुका सिंह शामिल हैं।

पहले बार जीतने वालों में एक प्रमुख नाम सिद्धेश्वर शिवाचार्य स्वामी का है, जिन्होंने महाराष्ट्र के सोलापुर में कांग्रेस के सुशील कुमार शिंदे को हराया।

बीजेपी की जीत आडवाणी की वजह से संभव : मोदी

महाराष्ट्र में सुजय राधाकृष्ण, सुनील मेंढे, भारती प्रवीण पवार, अनमेश पाटिल, सुधाकर तुकाराम, रंजीत सिंह निंबालकर, मनोज कोटक और प्रताप राव चिखलिकर अन्य लोगों में शामिल हैं जिन्होंने अपनी पहली लोकसभा जीत दर्ज की।

कर्नाटक से पहली बार चुने गए 8 सांसद

कर्नाटक से पहली बार चुनाव जीतने वालों में तेजस्वी सूर्या, वाई. देवेन्द्रप्पा, वी. श्रीनिवास प्रसाद, बी. एन. बचे गौड़ा, अन्ना साहेब जोले, ए. नारायणस्वामी, एस. मुनीस्वामी और राजा अमरेश्वर नाइक शामिल हैं।

असम ने पहली बार बीजेपी के सात और ओडिशा ने छह सांसद सदन में भेजे हैं।