भारत का रक्षा उपग्रह एमीसैट कक्षा में स्थापित

ISRO SatellitePhoto Credit: Twitter ISRO

श्रीहरिकोटा| आंध्र प्रदेश में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानि इसरो ने इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस सैटेलाइट एमीसैट को उसकी कक्षा में स्थापित कर दिया है ।

एमीसैट के साथ-साथ दूसरे देशों के 28 उपग्रहों को लेकर लगभग 239 किलोग्राम वजनी पीएसएलवी रॉकेट ने सुबह 9.27 बजे उड़ान भरी । इन 28 उपग्रहों में अमेरिका के 24, लिथुआनिया के 2, स्पेन और स्विट्जरलैंड के 1-1 उपग्रह शामिल हैं।

इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस सैटेलाइट एमीसैट रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन यानि डीआरडीओ के लिए काफी अहम है ।

मिशन शक्ति की कामयाबी से स्पेस सुपरपावर बना भारत

इसरो के चेयरमैन के. सिवन के मुताबिक ये अपनी तरह का विशेष मिशन है, एमीसैट को कक्षा में स्थापित करने के लिए चार स्ट्रैप-ऑन मोटरों वाले एक रॉकेट का उपयोग किया गया है । पहली बार रॉकेट को तीन अलग-अलग दूरियों की कक्षाओं में ले जाने की कोशिश की गई है ।

इसरो उपग्रहों के वजन के मुताबिक रॉकेट चुनता है । उड़ान भरने के सिर्फ 16 मिनट बाद रॉकेट के चौथे चरण के इंजन बंद हो गया जिसके 47 सेकेंड के बाद 753 किलोमीटर की ऊंचाई पर रॉकेट से एमीसैट अलग हो गया।

भारत जुलाई या अगस्त में किसी समय अपने नए स्मॉल सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल रॉकेट से दो या ज्यादा रक्षा उपग्रहों को भी लॉन्च करेगा।ऐसा करने के बाद भारत कुल 297 विदेशी उपग्रहों को कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर लेगा।