ममता बनर्जी को समझने में मुझसे गलती हो गई थी : मोदी

Narendra Modi in West BengalPhoto Credit: Twitter BJP

बुनियादपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले उन्होंने तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी को समझने में भूल कर दी थी। मोदी ने कहा कि वह ममता बनर्जी को सादगी का प्रतीक मानते थे ।

प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा चुनाव में प्रचार के लिए पश्चिम बंगाल में रैल कर रहे थे । दक्षिण दिनाजपुर जिले में रैली के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें लगता था कि ममता बनर्जी बंगाल को वामदलों के शासन से मुक्त कराना चाहती थी लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने कई गलत काम किए ।

चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि लोगों ने ‘ममता दीदी’ पर बहुत विश्वास किया है, जिन्होंने राज्य के ‘मां, माटी और मानुष’  के साथ धोखा किया है।

बंगाल लोकसभा चुनाव दीदी को सोने नहीं दे रहा : मोदी

मोदी ने कहा, “ऐसा नहीं है कि आपने अकेले गलती की है। मैंने भी समान रूप से गलती की है। जब मैं उन्हें टेलीविजन पर देखता था और समय-समय पर उससे मिलता था तो मुझे लगता था कि वह सादगी का सच्चा रूप हैं, मेहनती और नेक इरादों वाली है और वास्तव में बंगाल के विकास में रुचि रखती हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब उनके जैसा व्यक्ति उन्हें समझने में गलती कर सकता है तो आम लोगों से भी ऐसी गलती होना स्वभाविक सी बात है।

उन्होंने कहा, “लेकिन अब मैंने उनके असली रंग को समझ लिया है,और यहां तक कि बंगाल के बच्चे भी यह समझ गए हैं।”

शारदा और रोज वैली पोंजी घोटालों और नारद स्टिंग वीडियो का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि गरीबों की गाढ़ी कमाई लूट ली गई। और फिर, दीदी ने घोटालेबाजों को सांसद और मंत्री बना दिया। इतना ही नहीं, वह घोटालेबाजों के लिए धरने पर भी बैठ गईं।”

नामदारों की पार्टी को वोट देना गुनाह : मोदी

ममता ने शारदा पोंजी घोटाले के सिलसिले में कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ करने के केंद्रीय जांच ब्यूरो के प्रयासों के विरोध में फरवरी में धरना किया था।

मोदी ने कहा, “आपके आशीर्वाद से, आपका ‘चौकीदार’ गरीब लोगों से लूटे गए हर पैसे का हिसाब लेगा। अब ये लोग किसी भी ताकत का इस्तेमाल कर लें, न्याय को रोक नहीं सकते हैं।”

बालुरघाट लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के उम्मीदवार सुकांता मजूमदार के समर्थन में बैठक को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरे देश में चर्चा थी कि बंगाल में ‘कुछ बड़ा’ हो रहा है।