राजस्थान : कांग्रेस ने सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया

राजस्थान : कांग्रेस ने सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया

जयपुर/नई दिल्ली। मौजूदा राजनीतिक संकट के बीच कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं आने वाले सचिन पायलट को उनके पदों से हटा दिया है। कांग्रेस पार्टी ने सचिन पायलट के साथ ही उनके समर्थक 2 मंत्रियों की भी अशोक गहलोत मंत्रिमंडल से छुट्टी कर दी है।

कांग्रेस की कार्रवाई के तुरंत बाद ट्वीटर पर प्रतिक्रिया देते हुए सचिन पायलट ने कहा कि सत्य को परेशान तो किया जा सकता है लेकिन पराजित नहीं।

कांग्रेस आलाकमान की तरफ से पार्टी पर्यवेक्षक बनाकर जयपुर भेजे गए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सचिन पायलट और उनके समर्थक मंत्रियों को लेकर यह ऐलान किया। हालाँकि, इसके पहले रणदीप सिंह सुरजेवाला की तरफ़ से सचिन पायलट को मामले को सुलझाने के लिए कई बार संदेश भेजा गया।

इतना ही नहीं, सुरजेवाला ने सचिन पायलट और उनके कुछ मंत्री साथियों पर बीजेपी के साथ मिलकर चुनी हुई सरकार को गिराने की साजिश का आरोप भी लगाया है। सुरजेवाला ने कहा पार्टी ने बहुत दुखी मन से यह फैसला किया है। सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री पद, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्री पद से हटाया जा रहा है।

इसके साथ ही कांग्रेस ने राजस्थान में नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम का भी ऐलान कर दिया है। पार्टी ने राज्य के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा को प्रदेश अध्यक्ष पद की ज़िम्मेदारी सौंपी है।

राजस्थान : मनमुटाव तभी से था जब साफा बाँधकर सचिन तैयार थे और मुख्यमंत्री बना दिए गए गहलोत

कांग्रेस पार्टी ने राज्य संगठन में कुछ और बदलाव भी किए हैं। पार्टी ने राजस्थान प्रांत युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद से मुकेश भाकर को हटाकर यह पद विधायक गणेश घोघरा को दे दिया है। इसके अलावा राकेश पारीक को हटाकर हेम सिंह शेखावत को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस सेवा दल का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर राजस्थान की कांग्रेस सरकार में चल रहे संकट का एक अध्याय समाप्त हो गया है और दूसरा अध्याय शुरू हो चुका है।