राहुल की न्यूनतम आय का वादा महज धोखा : जेटली

Arun Jaitley

नई दिल्ली | केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी की न्यूनतम आय के वादे को चुनावी धोखा करार दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वादा किया है कि अगर कांग्रेस की सरकार बनी तो देश के सबसे गरीब श्रेणी के 20 फीसदी लोगों को सालाना 72000 रुपए दिए जाएंगे । अरुण जेटली ने कहा कि कांग्रेस गरीबी के मुद्दे पर देश को 50 साल से गुमराह कर रही है ।

राहुल ने की ‘धोखे वाली घोषणा’

जेटली के मुताबिक सरकार की तरफ से गरीबों को 5.34 लाख करोड़ रुपए सब्सिडी के तौर पर दिए जा रहे हैं । जेटली ने कहा कि  “उपरोक्त 5.34 लाख करोड़ के अतिरिक्त कई अन्य योजनाएं हैं, जो गरीबों को हजारों करोड़ दे रही हैं। यदि कांग्रेस पार्टी की घोषणा का सामान्य हिसाब लगाया जाए तो पांच करोड़ परिवारों को 72,000 रुपये के हिसाब से 3.6 लाख करोड़ रुपये बैठेगा। यह राशि दी जा रही राशि के दो-तिहाई से कम है। इसलिए यह एक धोखे वाली घोषणा है।”

गरीबी पर अंतिम प्रहार है ये योजना : राहुल गांधी

राहुल गांधी ने ऐलान किया था कि अगर कांग्रेस पार्टी की सरकार बनती है तो देश के करीब 25 करोड़ लोगों को हर साल 72 हज़ार रुपए दिए जाएंगे । कांग्रेस ने अपनी इस महात्वाकांक्षी न्यूनतम आय गारंटी योजना का नाम स्कीम रखा है । राहुल गांधी ने इस योजना का ऐलान करते वक्त इसे गरीबी पर अंतिम प्रहार कहा था । कांग्रेस अध्यक्ष ने ये भी कहा कि ये योजना दुनिया में अद्वितीय है । राहुल गांधी ये भी दावा किया था कि आर्थिक विशेषज्ञों से राय मशविरे के बाद योजना का खाका तैयार किया है और इसे लागू करना आर्थिक रूप से पूरी तरह संभव है ।

गरीबी को नज़रअंदाज करने की जवाबदेही आपकी: जेटली

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी पर देश को गुमराह करने के आरोप लगाए हैं और कहा “गरीबी हटाओ का नारा देने के बाद भी यदि आज आप सोचते हैं कि 20 प्रतिशत लोगों की आय 12,000 रुपये भी नहीं है, तो देश के गरीबों को नजरअंदाज करने की जवाबदेही आपकी बनती है।”