सरकार का बड़ा कदम-टिक टॉक समेत चीन के 59 ऐप्स पर पाबंदी, बताया-देश की सुरक्षा के लिए खतरा

सरकार का बड़ा कदम- टिक टॉक समेत चीन के 59 ऐप्स पर लगी पाबंदी , बताया- देश की सुरक्षा के लिए खतरा

नई दिल्ली ।  सरकार ने भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए नुकसानदेह बनी चीन की 59  ऐप्स पर पाबंदी लगा दी। सरकार का कहना है कि डेटा सुरक्षा से संबंधित पहलुओं और 130 करोड़ भारतीयों की निजता की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाया गया है।

सरकार ने टिक टॉक, शेयरइट, यूसी ब्राउजर, क्‍लब फैक्‍टरी और यूसी न्यूज़ समेत कुल 59 ऐप्स पर पाबंदी लगाई है। सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 ए के तहत यह कार्रवाई की है। सरकार का कहना है कि इन सभी ऐप्स के सर्वर भारत से बाहर मौजूद हैं और इन ऐस्प की मदद से भारतीय नागरिकों का डेटा चोरी किया जा रहा था। सरकार के मुताबिक यह ऐप्स देश की संप्रभुता एवं अखंडता, देश की रक्षा, राज्‍य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्‍यवस्‍था के लिए ख़तरा बन गए थे और यही वजह है कि इस पर तत्काल पाबंदी लगाई गई।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुताबिक उपलब्ध जानकारी को ध्यान में रखते हुए ये ऐप्स उन गतिविधियों में लगे हुए हैं जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए नुकसानदेह हैं। सरकार का कहना है कि डेटा सुरक्षा से संबंधित पहलुओं और 130 करोड़ भारतीयों की निजता की सुरक्षा के लिए चिंताएं बढ़ गई हैं। हाल ही में गौर किया गया है कि इस तरह की चिंताओं से हमारे देश की संप्रभुता और सुरक्षा को भी खतरा है।

हम पूरी दृढ़ता से देश की एक-एक इंच जमीन और स्वाभिमान की रक्षा करेंगे : नरेंद्र मोदी

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को विभिन्न स्रोतों से तमाम शिकायतें मिली हैं जिनमें एंड्रॉइड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कई मोबाइल ऐप के दुरुपयोग के बारे में विभिन्‍न प्रकार की रिपोर्ट शामिल हैं। उनका दुरुपयोग चोरी करने के लिए और उपयोगकर्ताओं के डेटा को अनधिकृत तरीके से उन सर्वरों पर प्रसारित करने में किया जा रहा है जो भारत के बाहर स्थित हैं। इन आँकड़ों का संकलन और इनकी माइनिंग एवं प्रोफाइलिंग वह तत्व कर रहे हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा और भारत की रक्षा के लिए खतरनाक हैं। इस प्रकार उसका प्रभाव अंततः भारत की संप्रभुता और अखंडता के लिए नुकसानदेह है। यह काफी गंभीर मामला और तत्काल चिंता का विषय है जिसके लिए तुरंत कदम उठाने की आवश्यकता है।

गृह मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र ने भी इन दुर्भावनापूर्ण ऐप्स को ब्‍लॉक करने के लिए एक व्‍यापक सिफारिश भेजी है। इस मंत्रालय को कुछ ऐप के संचालन के संबंध में डेटा सुरक्षा और गोपनीयता के लिए जोखिम के बारे में नागरिकों की चिंताओं को जाहिर करने वाली कई जानकारियँ भी मिली हैं

संसद के बाहर और भीतर दोनों जगह विभिन्न जनप्रतिनिधियों ने इस मुद्दे को उठाया और इस पर चिंता भी जताई। हमारे नागरिकों की निजता के साथ- साथ भारत की संप्रभुता को नुकसान पहुंचाने वाले ऐप के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए एक व्‍यापक जन भावना उमड़ रही थी। यह कदम करोड़ों भारतीय मोबाइल और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के हितों की रक्षा करेगा। यह निर्णय भारतीय साइबरस्पेस की सुरक्षा एवं संप्रभुता सुनिश्चित करने के लिए एक ज़रूरी कदम है।

ऐप्स जिन पर पाबंदी लगाई गईं
  1. टिक टॉक
  2. शेयरइट
  3. कवाई
  4. यूसी ब्राउजर
  5. बैडू मैप
  6. शीइन
  7. क्‍लैश ऑफ किंग्‍स
  8. डीयू बैटरी सेवर
  9. हेलो
  10. लाइकी
  11. यूकैम मेकअप
  12. मी कम्‍युनिटी
  13. सीएम ब्राउजर
  14. वायरस क्‍लीनर
  15. एपीयूएस ब्राउजर
  16. आरओएमडब्‍ल्‍यूई
  17. क्‍लब फैक्‍टरी
  18. न्‍यूजडॉग
  19. ब्‍यूटी प्‍लस
  20. वीचैट
  21. यूसी न्‍यूज
  22. क्‍यूक्‍यू मेल
  23. वीबो
  24. जेंडर
  25. क्‍यूक्‍यू म्‍यूजिक
  26. क्‍यूक्‍यू न्‍यूजफीड
  27. बिगो लाइव
  28. सेल्‍फी सिटी
  29. मेल मास्‍टर
  30. पैरेलल स्‍पेस

 

  1. मी विडियो कॉल – श्‍याओमी
  2. वी सिंक
  3. ईएस फाइल एक्‍सप्‍लोलर
  4. विवा वीडियो – क्‍यूयू वीडियो इंक
  5. मीटू
  6. विगो वीडियो
  7. न्‍यू वीडियो स्‍टेटस
  8. डीयू रिकॉर्डर
  9. वॉल्‍ट- हाइड
  10. कैचे क्‍लीनर डीयू ऐप स्‍टूडियो
  11. डीयू क्‍लीनर
  12. डीयू ब्राउजर
  13. हागो प्‍ले विद न्‍यू फ्रेंड्स
  14. कैम स्‍कैनर
  15. क्‍लीन मास्‍टर – चीता मोबाइल
  16. वंडर कैमरा
  17. फोटो वंडर
  18. क्‍यूक्‍यू प्‍लेयर
  19. वी मीट
  20. स्‍वीट सेल्‍फी
  21. बैडू ट्रांसलेट
  22. वीमेट
  23. क्‍यूक्‍यू इंटरनेशनल
  24. क्‍यूक्‍यू सिक्‍योरिटी सेंटर
  25. क्‍यूक्‍यू लॉन्‍चर
  26. यू वीडियो
  27. वी फ्लाई स्‍टेटस वीडियो
  28. मोबाइल लीजेंड्स
  29. डीयू प्राइवेसी