24 साल बाद साथ दिखे माया-मुलायम, कहा देश हित में लिया फैसला

Maya Mulayam in MainpuriPhoto Credit: Twitter Samajwadi Party

मैनपुरी। उत्तर प्रदेश में कभी एक दूसरे के कट्टर विरोधी रहे समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव और बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने मंच साझा किया। गठबंधन की संयुक्त रैली में एक साथ आए दोनों नेताओं ने एक-दूसरे की तारीफों के पुल बांधे

मंच से मायावती ने मुलायम सिंह यादव को पिछड़े वर्ग का सबसे बड़ा नेता बताया।

मुलायम ने कहा कि मायावती हमारे लिए वोट मांगने आईं हैं। हम उनका स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि आप इस चुनावी समय पर यहां आईं, आपके इस एहसान को कभी नहीं भूलूंगा। उन्होंने वहां मौजूद लोगों से कहा कि मायावती का बहुत सम्मान करना होगा। मायावती ने हमेशा हमारा साथ दिया है।

मोदी पिछड़े वर्ग के नकली नेता’

मायावती ने कहा, “मुलायम सिंह यादव जी देश के काफी बड़े नेता हैं। जो कहते हैं, वह करते हैं। यह मोदी की तरह पिछड़े वर्ग के नकली नेता नहीं हैं। मोदी खुद को पिछड़ा बताकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। मुलायम सिंह ने पिछड़ों का विकास किया है।”

‘कांग्रेस वोट लेने के लिए बोल रही है झूठ’

बीएसपी प्रमुख ने कहा कि केंद्र में आजादी के बाद कांग्रेस या बीजेपी की ही सरकार रही है, लेकिन कांग्रेस पार्टी को अपनी गलत नीतियों की वजह से केंद्र और राज्यों की सत्ता से बाहर होना पड़ा है। कांग्रेस पूरे देश में घूम-घूम कर लोगों का वोट लेने के लिए झूठ बोल रही है। अगर हम सत्ता में आते हैं तो आपको हम नौकरी देंगे।

मायावती ने कहा कि हमें विरोधी दलों के बहकावे में नहीं आना है। हमारी पार्टी सरकार में आती है तो हम गरीबों को नौकरी दिलाएंगे। बीजेपी गठबंधन को लेकर जनता को गलत तरीके से बहका रही है, आपको उनके बहकावे में नहीं आना है।

उन्होंने कहा कि दो चरणों के ही चुनाव में बीजेपी की हालत खराब हो गई है। मोदी क्या-क्या नहीं बोलते। मोदी जी सुनिए, आपने हमारे गठबंधन को सराब कहा है तो गठबंधन को नशा चढ़ गया है। हम अब बीजेपी को बाहर कर देंगे।

देशहित के लिए हुआ एसपी-बीएसपी गठबंधन

मायवती ने गेस्ट हाउस कांड का जिक्र करते हुए कहा कि 2 जून 1995 को हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद भी लोकसभा चुनाव में गठबंधन क्यों हुआ, इसका जवाब सभी चाहते होंगे। गेस्ट हाउस कांड के बाद भी एसपी-बीएसपी गठबंधन हुआ। कभी-कभी देशहित में ऐसे फैसले लेने पड़ते हैं। हम सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए एक साथ आए हैं।

बीएसपी  मुखिया ने कहा कि पार्टी हित और देश हित में कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं। इस बार चुनाव में आप लोग मुलायम सिंह यादव को जिताएं। इस चुनाव में असली और नकली की पहचान कर लेना है।