3 रुपए के थैले के लिए बाटा को चुकाने होंगे 9 हज़ार रुपए

bata-shoes paper bag

नई दिल्ली।  बाटा इंडिया लिमिटेड पर एक ग्राहक से शॉपिंग के बाद पेपर बैग के लिए तीन रुपया लेने पर जुर्माना लगा है। बाटा पर ये जुर्माना चंडीगढ़ उपभोक्ता आयोग ने लगाया है । बाटा को नौ हज़ार रुपए बतौर जुर्माना भरने होंगे ।

उपभोक्ता आयोग ने दिनेश प्रसाद रतूड़ी की शिकायत पर ये कार्रवाई की है । उपभोक्ता आयोग के इस फैसले का असर पूरे देश में होगा।

अब सामान खरीदने पर उसे ले जाने के लिए थैले के पैसे अलग से चार्ज नहीं से किया जा सकेगा और अगर ऐसा कोई दुकानदार करता है तो आप उसकी शिकायत कर सकते हैं ।

रिलायंस जियो का मुनाफा 64.7 फीसदी बढ़ा

ये पूरा मामला चंडीगढ़ का है । दिनेश कुमार रतूड़ी ने उपभोक्ता फोरम से शिकायत की थी कि पांच फरवरी को सेक्टर 22डी के जूते के स्टोर से एक जोड़ी जूता खरीदा। स्टोर ने कीमत 402 रुपये ली जिसमें बैग की कीमत भी शामिल थी।

रतूड़ी ने यह कहकर इसका विरोध किया कि बाटा एक तरफ तो थैले के लिए उनसे पैसा ले रहा है और दूसरी तरफ थैले पर उसका ब्रांड भी छपा हुआ है जो कि न्यायोचित नहीं है। रतूड़ी ने तीन रुपये का रिफंड और सेवा में कमी के लिए मुआवजा मांगा।

देश भर में कहीं भी दुकान मालिक ग्राहक से थैले के लिए पैसा नहीं ले सकते

फोरम ने कागज के थैले के लिए अतिरिक्त चार्ज लेने पर बाटा को लताड़ा। फोरम ने आदेश दिया कि ग्राहक को थैले का पैसा देने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता और ऐसा करना सीधे-सीधे सेवा में कमी करना है। उपभोक्ता फोरम ने आदेश दिया कि यह स्टोर की ड्यूटी है कि वह उसका सामान खरीदने वाले को मुफ्त में थैला उपलब्ध कराए।

नाश्ता नहीं करने से बढ़ सकता है जान का खतरा

उपभोक्ता अदालत का यह फैसला पूरे देश में कानूनी रूप से मान्य है। लोग देश में कहीं भी इस आदेश का जिक्र कर सकते है और थैले के लिए पैसा देने से बच सकते हैं। आदेश में साफ है कि अगर थैला पर्यावरण हितैषी है तो भी दुकानदार उसके लिए अतिरिक्त पैसा नहीं ले सकता।